मंगलवार, दिसंबर 30, 2008

जावेद अख्तर की आवाज में कुछ अशार और एक नज्म !!!



अब इसी नज्म को खुद जावेद अख्तर की आवाज में सुनिये।


ये तसल्ली है कि हैं नाशाद सब,


4 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, नीरज जी, वाह, सुबह सुबह उस दरवेश जावेद अख्तर के शब्द उसी की आवाज़ में सुना कर आप ने तो मेरे दिन को ही चार चांद लगा दिये --
    मैं अब जिस घर में रहता हूं
    बहुत ही खूबसूरत है
    मगर अकसर यह खामोश बैठा याद करता हूं
    वो कमरा बात करता था ...
    वाह भई वाह।
    नीरज जी, नये साल की बहुत बहुत मुबारकबाद।
    शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह, क्या बात है, सुनवाने का शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत खूब। दिल को खुश हो गया। क्या आप इस हमें भेज सकते हैं। जिससे हम जब चाहे तब सुन सके। विनती हैं। और नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पढ़ने में अच्छा लगा। आज सुन नहीं पा रहा हूं, नेट की समस्या से। फिर कभी सुनूंगा जावेद अख्तर को।

    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।