रविवार, अप्रैल 20, 2008

अब्दुल रहीम फ़रीदी कव्वाल की पेशकश !!!

आज यू-ट्यूब पर कव्वालियाँ सुनते सुनते अचानक अब्दुल रहीम फ़रीदी कव्वाल को सुनने को मौका मिला । इससे पहले कभी इनको सुना नही था लेकिन एक बार सुना तो दिन भर सुनता रहा । अब तो ऐसा जादू तारी हो गया है कि बिना आपको सुनवाये मन नहीं मानेगा ।

तो सुनिये, ख्वाजा की जोगनिया मैं बन जाऊँगी ...

बस एक ही टीस है कि ऐसे बेमिसाल कलाकार आज के बाजार की माँग के आगे कैसे चलेंगे । क्या आपको भी यही टीस उठती है कभी कभी ?

भाग एक:

इसी कव्वाली का दूसरा भाग:







Technorati Tags

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस बेहतरीन कव्वाली को सुनवाने के लिये धन्यवाद!

    इस बात की टीस तो उठती हे कि बाजार के प्रभाव में ऐसे कलाकार गुमनाम ही रह जाते है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाई आपने बहुत अच्छा किया,बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहाँ कहाँ से खोज कर नायाब चीजें लाते हो-वाह!! इसी लिये तो रोज भटकते यहाँ चले आते हैं. :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. ऐन मौके पर कम्प्यूटर का स्पीकर काम नहीं कर रहा। खैर हमने पोस्ट पढ़ी। सुनेंगे कभी बाद में।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हां, सुन पाया, और अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।