मंगलवार, अप्रैल 29, 2008

एक ठुमरी और तीसरी कसम का गीत संवादों के साथ बोनस में !!!

आजकल समय कम होने के कारण संगीत पर पोस्ट ठेलना ज्यादा आसान लगता है । फ़टाफ़ट काम हो जाता है और आपकी शुभकामनायें मिलती हैं, वो अलग :-)

पहला गीत: भैरवी राग (तीन ताल) में एक ठुमरी है जिसे पण्डित अजय पोहनकर ने गाया है । ठुमरी के बोल हैं, "कैसी ये भलाई"


दूसरा खास बोनस गीत फ़िल्म तीसरी कसम का है । इसकी खासियत है कि गीत के बीच बीच में राज कपूर साहब की आवाज में संवाद । मेरा दावा है कि इसे सुनकर आपको फ़िल्म की याद आ जायेगी ।








Technorati Tags     ,,,,,

6 टिप्‍पणियां:

  1. ठुमरी सुन ली, तो शुभकामनाऐं एवं आभार.

    -दूसरा नहीं सुना-फिर भी शुभकामनाऐं ताकि तुम्हारा वो शुभकामना वाला उद्देश्य तो पूरा हो जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार। कल सुनेंगे। महीने के अन्तिम दिन ब्रॉडबैण्ड की फ्री डाउनलोड लिमिट क्रास कर चुके है। आइटम स्टार कर लिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों सुने। अच्छे लगे!
    शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मज़ा आ गया भैया.
    अज्जू दादा का सरनेम पोहनकर (अभी पोहानकर हो गया है)
    कर दीजिये न.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! सुबह को सुनती तो और भी आनंद आता…आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. तीसरी कसम का गीत तो कई बार सुना हुआ है परन्तु ठुमरी सुनकर मन खुश हो गया...
    धन्यवाद नीरज भाई।

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।