सोमवार, अगस्त 13, 2007

अब अक्सर चुप चुप से रहे हैं !!!

इयत्ताजी की साहिर लुधियानवीजी के बारे में आज की पोस्ट पढी तो सोचा क्यों न साहिरजी की ये गजल आपको सुनवायी जाये । लीजिये साहेबान, पेश-ए-खिदमत है जगजीत सिंह की नाजुक आवाज में ये गजल...

Ab_Aksar_Chup_Chup...



इसी के साथ अपनी जल्दी ही आने वाली कुछ पोस्टों (इसकी हिन्दी कौन सुझायेगा :-) ) की जानकारी,

१) सरदार अली जाफ़री के टी. वी. धारावाहिक कहकंशा के संगीत पक्ष पर कुछ जानकारी और कुछ अच्छी गजलें/नज्में

२) सूफ़ी कव्वाली के बारे में कुछ रोचक जानकारियाँ ।

अब चलते चलते, साहिरजी की एक और गजल सुनवाये बिना मन नहीं मानेगा । ये गजल है:
"किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फ़िर भी" । इस गजल के एक अशार को इयत्ता जी ने अपने चिट्ठे पर लिखा था, पेश-ए-खिदमत है जगजीत सिंह की आवाज में ये गजल...

Kisii_Kaa_Yun_To_H...



अपनी टिप्पणियों के माध्यम से अपनी राय जरूर बताते रहें ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह, नीरज. बहुत बेहतरीन पेशकश. दोनो ही पसंद आये.

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलो, यूनुस की टक्कर का ब्लॉग तो आया. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन मज़ा आ गया । हमने अपने ब्‍लॉग पर साहिर पर खूब सारा लिखा है उनकी आवाज़ में दो तीन नज्‍में भी डाली हैं । कभी फुरसत पाकर देखें ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया नीरज भाई
    सुबह सुबह बहुत ही सुन्दर गज़लें सुनवाई आपने। आने वाली पोस्टों (पोस्टों को लेख, या प्रविष्टियाँ कहा जा सकता है?) का बेसब्री से इंतजार है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. साथ साथ में इन गज़लों के बोल (Lyric) भी लिख दिये जाते तो मजा दुगुना हो जाता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहली ग़ज़ल ज्यादा पसंद आई। सुनाने का शुक्रिया !
    कहकशां वास्तव में एक संग्रह करने योग्य एलबम है । उसी एलबम से ली हुई मज़ाज की नज़्म .. ऍ गमें दिल क्या करूँ मेरी बेहद प्रिय है और उसके बारे में यहाँ विस्तार से लिखा था।
    http://ek-shaam-mere-naam.blogspot.com/2006/12/blog-post_06.html

    http://ek-shaam-mere-naam.blogspot.com/2006/12/blog-post_09.html

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।