रविवार, जुलाई 08, 2007

चल के दो कदम जो निकला बस्ती से बाहर !

गुस्ताखी माफ़, आज बहुत दिनों के बाद फ़िर से काव्य का रूख किया है । यूँ ही बेतरतीब लफ़्जों को छापते में थोडी शर्म भी हो रही है ।

चल के दो कदम जो निकला बस्ती से बाहर,
मुर्दा बदन को किसी ने छू लिया हो जैसे ।
सुरमई सूरज से महकती मिट्टी की सौंधी खुशबू,
बारिश से धुली शाखों पर दमकते पत्ते,
और उन पत्तों पर जिन्दादिल चिडियों का शोर ।

मेरी लाचारी को रुक कर ताकती दो गिलहरियाँ,
फ़िर भागकर गुम होती शाखों की हरियाली में ।
मानो नन्हें हाथों से मुझे ही बुला रही हों,
कि आओ कुछ बात करें, कुछ बात करें ।

बोलने की ख्वाहिश में गले तक उमडे गूंगे जज्बात,
सीने में अटकी सांसो में जाने क्यों खो जाते हैं ?
कभी बोलना इतना भी दुश्वार नहीं था ।

आँखो की जुबान होती है, मैने तो नहीं सुनी,
बन्द बोझिल थकी आँखे भी कुछ बोलती हैं क्या?
जज्बातों को भी आवाज की बैसाखी चाहिये ।

ये खामोशी, ये सच्चाई अब बर्दाश्त न होगी,
झूठ छुप नहीं पाता, तार तार हो जाता है,
बेहतर है फ़िर से बस्ती का ही रूख करें ।

नीरज रोहिल्ला,
८ जुलाई, २००७

6 टिप्‍पणियां:

  1. अरे, इतनी बेहतरीन रचना लिखी है और शरमा रहे हो तो कई तो डूब ही मरेंगे, बहुत बढ़िया. लिखते रहो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी लाचारी को रुक कर ताकती दो गिलहरियाँ,
    फ़िर भागकर गुम होती शाखों की हरियाली में ।
    मानो नन्हें हाथों से मुझे ही बुला रही हों,
    कि आओ कुछ बात करें, कुछ बात करें ।

    बहुत अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बस्ती के बाहर निकलने में चकाचौन्ध लगती ही है. और मन फिर खोल में घुस जाने को करता है.
    बहुत बढ़िया लिखा है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति है। और आप इसे बेतरतीब पुकारते हैं???

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना… सागर की लहरों की तरह…
    हम तो खो गये…।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब नीरज। शाबाश। और लिखो। god bless you.

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।