सोमवार, अप्रैल 27, 2009

जिया मोहयेद्दीन: आवाज के बाद कुछ लिखने की जरूरत भी नहीं।







6 टिप्‍पणियां:

  1. ..bemisaal avaaz/adaaygi.. bahut shukriyaa..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेशक, सुनने के बाद लिखने की कोई जरूरत नहीं।

    ----------
    S.B.A.
    TSALIIM.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमने तो सुना, पर भाषा में गरीबी आड़े आ गयी समझने में।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी12:08 am

    SirJi , kanha hain aap ? kuch likh nahee rahe hain aaj-kal .roj aapke blog par aakar vapas jana padta hai . Exam me busy hain kya ?

    Regards-
    Gaurav Srivastava

    उत्तर देंहटाएं
  5. दूसरा और तीसरा प्लेअर नहीं चल रहा.....सिर्फ़ पहला सुना और सच में --आवाज के बाद कुछ लिखने की जरूरत भी नहीं ....पर और सुनना है ....

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।