रविवार, अप्रैल 12, 2009

दो दौडों का विवरण फ़ोटुआ के साथ !!!

अपनी दाँयी टांग को चिट्ठी लिखने के बाद मामला कुछ सुधरा है और इस प्रविष्टी में हम दो दौडों का विवरण बांच रहे हैं। इसी बीच हमारी दांयी टांग ने हमारे शिकायती पत्र का जवाब हमें लिख भेजा है जिसे अगली पोस्ट में छापा जायेगा।

पहली दौड थी Bellaire Trolley Run 5k  ये ह्यूस्टन की पाँच किमी दूरी की प्रसिद्ध दौड है, इसको लगभग सभी अच्छे धावक दौडते हैं क्योंकि इसमें ईनाम में एक ट्राम मिलती है जो चाबी घुमाने पर मधुर संगीत बजाती है। हमारा उद्देश्य था कि इस दौड को २० मिनट से कम समय में पूरा किया जाये। लेकिन एक लफ़डा हो गया, दौड से एक दिन पहले हमारे प्रिय मित्र शेखर जैन का फ़ोन आया कि वो अपनी पी.एच.डी. पूरी करके नौकरी करने के लिये भारत रवाना हो रहे हैं और इसीलिये आज शाम को उनकी शान में एक आयरिश बार में मदिरासेवन का कार्यक्रम है।  अक्सर ऐसे मौके छोडे नहीं जाते लेकिन अगले दिन सुबह दौड और इधर अपने प्रिय मित्र की फ़ेयरवैल पार्टी। खैर आयरिश बार में सब लोग मिले और हम एक बीयर का गिलास उठाकर जितना धीरे पी सकते थे उतना धीरे पीने का प्रयास करते हुये चर्चा करते रहे। लेकिन फ़िर भी दो गिलास बीयर और चर्चा करके घर आते आते सुबह का १ बज गया। घडी में सुबह ५:३० का अलार्म भरकर सोने का प्रयास किया लेकिन नींद देर तक न आयी।

सुबह ५:३० बजे उठकर, नहाकर (जी हाँ नहाकर, आप बिना नहाये मन्दिर नहीं जाते, आफ़िस नहीं जाते तो हम बिना नहाये रेस कैसे दौड सकते हैं) ७ बजे तक दौड स्थल तक आ चुके थे। वहाँ पर हमारे धावक क्लब का तम्बू पहले से तैयार था वहाँ पर Rosie काफ़ी का थर्मस लेकर आयी थीं। हमने रात का सूरूर उतारने के लिये दो कप काफ़ी निपटा दी। उसके बाद दौड से १५ मिनट पहले हम वार्म अप करने निकल पडे। लगभग १ मील की धीमी दौड लगाकर मांशपेशियों को सोते से जगाकर आगे वाले काम के लिये मनुहार करके तैयार किया गया। 

हमको पता चला कि इसी दौड में ह्यूस्टन निवासी ६० वर्षीय महिला सेब्रा हार्वी (Sabra Harvey) ५ किमी की दौड का विश्व कीर्तिमान बनाने का प्रयास करेंगी।  रेस के प्रारम्भ में सेब्रा के बगल में खडे होना ही बडी बात थी, उनके आत्मविश्वास को देखते हुये लग रहा था कि वे अपने गोल में सफ़ल होंगी। सेब्रा को इस कीर्तिमान के लिये इस दौड में १९ मिनट और ३७ सेकेंड्स के समय की आवश्यकता थी लेकिन उन्होनें इस दौड को १९ मिनट और १२ सेकेंड्स मे पूरा करके विश्व कीर्तिमान अपने नाम किया।

फ़िलहाल बन्दूक की आवाज के साथ ही दौड शुरू हो गयी। हमने अपनी दौड लीड ग्रुप के साथ प्रारम्भ की लेकिन शुरूआती ४०० मीटर में ही वो हमसे दूर होते चले गये। पहला मील उत्तेजना में आवश्यकता से अधिक तेज दौडा गया।  घडी देखने पर लगा कि पहला मील ६ मिनट और १० सेकेंड्स में पूरा हुआ।  सवा मील तक आते आते हमारी सांस उखडने सी लगी और इसी पशोपेश में ७ लोग हमसे आगे बढ गये। हमने अपने आप को संभाला और दूसरे मील में अपनी सांस और हृदयगति पर नियंत्रण करने का प्रयास किया। दूसरा मील ६ मिनट और ३५ सेकेंड्स में पूरा हुआ। इसके बाद हमने अपने को सहज महसूस किया और एक-एक करके आगे निकले ७ लोगों को खदेडने का प्रयास किया। लगभग २.७५ मील पर हमने सातवें धावक को भी पीछे छोडा और आगे हमारे मित्र Simon Brabo दौड रहे थे। Simon की आदत सब जानते हैं कि अगर कोई उनसे आगे निकलने का प्रयास करे तो फ़िर Simon को गुस्सा आता है :-)

खैर हम दौडते दौडते Simon के कन्धे तक आ गये और बिना आवाज किये उनके पीछे लगे रहे, अचानक Simon ने पीछे मुडकर देखा और हमने बिना कुछ कहे अपनी रफ़्तार बढा दी। जब तक Simon कुछ समझते हमने ५-६ कदम की लीड ले ली थी। उसके बाद समाप्ति पंक्ति तक Simon और हम कडी प्रतिस्पर्धा में रहे लेकिन हमने उनको पीछे छोड ही दिया। Simon उस दिन अच्छा महसूस नहीं कर रहे थे और अगली दौड में हमारी खैर नहीं है (बिना ईस्माइली के)।

हमने इस दौड को १९ मिनट और ३७ सेकेंड्स में पूरा किया और अपने उम्र समूह (२५-२९ वर्ष) में हमें द्वितीय पुरस्कार मिला जिसका फ़ोटो हम सनद के साथ लगा रहे हैं।













(दौड की समाप्ति के बाद हरदीप और हम विजयी मुस्कान के साथ)              
(अपने धावक क्लब के लिये ईनाम जीतते हुये)

















(हमारे धावक क्लब के लिये ईनाम जीतने पर Lara की तरफ़ बधाई तो बनती ही थी )




उसके अगले हफ़्ते यानि कल (शनिवार को) हमने Flying Owls 5k में भाग लिया। मजे की बात है कि इस दौड में हमारा समय १९ मिनट और १७ सेकेंड्स रहा जो पिछली दौड (१९:३७) की अपेक्षा बेहतर रहा लेकिन फ़िर भी हमें कोई ईनाम नहीं मिला क्योंकि इस दौड में उम्र समूह ५ वर्ष के अन्तराल (२५-२९) के स्थान पर १० वर्ष (२०-२९) का था और २०-२१ साल के छोकरे लोग हमसे भी तेज दौड गये :-)

इस दौड में हमारे कुछ बेहतरीन फ़ोटो लिये गये जो हम लगा रहे हैं।




















(ये वाला फ़ोटो मेरा पसंदीदा है, दोनो पैर हवा में फ़्लोट करते हुये ऐसा लग रहा है कि जैसे Flying Owls 5k में हम सच में ही उड रहे हों)
























(इस वाले फ़ोटो का क्या कहना, आखिरी ३०० मीटर में जिस तेजी और विश्वास की जरूरत होती है, बिल्कुल वैसा ही फ़ोटो आया है)










8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! बधाई वाली फोटो सबसे प्यारी लगी। लारा के बारे में एक पोस्ट लिखो!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनूप शुक्ल तो फोटो चयन में लग गये। हमें तो पूरी पोस्ट बढ़िया लगी। और मैं तो आपकी फोटो देख यह सोचने लगा हूं कि कैसे १२ किलो वजन कम करूं!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम तो दो किलो के ही फेर में अब तक पड़े हैं, कहीं देखते-देखते १२ ना हो जाय !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई, आपने भी १९ मिनिट ३७ सेकंड ले कर कीर्तिमान बनाया!

    उत्तर देंहटाएं
  5. नितिन जी,
    १९:३७ का समय ६० वर्षीय महिला के हिसाब से था | हमारी उम्र के हिसाब से हमको १३ मिनट से भी कम का समय चाहिए विश्व कीर्तिमान बनाने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीतने के लिये बधाई! आजकल भारतीय हर खेल में जीत रहे हैं। वॉलीबॉल, हॉकी, शूटिंग, और अब दौड़ में भी। ओलंपिक तब होकर अभी क्यों न हुये? ;)

    उत्तर देंहटाएं
  7. मुझे आपका ब्लोग बहुत अच्छा लगा ! आप बहुत ही सुन्दर लिखते है ! मेरे ब्लोग मे आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।