सोमवार, जुलाई 14, 2008

सीटी पर मदन मोहन का गीत यूँ हसरतों के दाग

आज ही संजय पटेलजी ने अपने चिट्ठे पर मदन मोहन की बरसी पर बांसुरी पर उनके कुछ गीत प्रस्तुत किये हैं । मदन मोहन जी को याद करते हुये "अदालत" फ़िल्म के गीत "यूँ हसरतों के दाग" को राजेश कोप्पिकर के अंदाज में पेश कर रहा हूँ । राजेश जी के गीत मैने केवल यूट्यूब पर ही सुने हैं लेकिन उनकी कलाकारी काबिल ए तारीफ़ है । इस गाने के उतार चढावों को उन्होने जिस बारीकी से अपनी सीटी में संजोया है उसे सुनकर मन वाह वाह कह उठता है । लीजिये, पेश-ए-खिदमत है "यूँ हसरतों के दाग" :


इसी के साथ मेरी पसन्द का एक और गीत "पूछो न कैसे मैने रैन बिताई" भी राजेश जी की सीटी के माध्यम से सुनिये ।





इसके अलावा यू-ट्यूब पर राजेश जी के २५० अन्य गीतों को इस पेज पर देख सकते हैं ।





8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ..बेहतरीन लगा यह .सुनवाने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. अदभुत है राजेश भाई का अंदाज़.
    किस किस रूप में लुभाते हैं मदन मोहन जी.दो बरस पहले मैने मदन जी पर एक कार्यक्रम किया था जिसके बारे में उनके सुपुत्र श्री संजीव कोहली को भी बताया.संजीव भाई ने अपने मार्मिक पत्र में लिखा था कि जो प्यार आज पापा को मिल रहा है काश वह उनके जीवन काल में मिला होता.

    बहरहाल आनंद दे गया ये सीटी वादन.
    राजेशजी को बधाई दीजियेगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. जे का बात हुई, जब हम वीडियो पर क्लिक करते हैं तो संदेस आता है
    we're sorry, this video is no longer available...... :(
    और लोगों ने कैसे देख/सुन लिया?

    उत्तर देंहटाएं
  4. Ghar jaa kar sunte hain. Pahle suna hai inhe You Tube par hi. Gajab kalakaar hain. Abhar prastuti ka.

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने ब्राड (सारी नैरो) बैण्ड में बहुत देर की मशक्कत पर थोड़ा सा सुन पाये "यूं हसरतों के दाग"। अच्छा लगा। वीडियो लायक नेट सुविधा अभी भारत में अच्छी नहीं है।
    पर जितना सुना, उतने में आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Something new Neerajbhai.
    Rajeshbhai's citee vaadan is great.
    Thanx for the presentation.

    -Harshad Jangla
    Atlanta, USA

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।