गुरुवार, जून 18, 2009

एक दिन का किस्सा और मजाज़ की याद में!!!

कल के दिन की शुरूआत और अन्त दोनो कष्टप्रद रहे ।

शुरूआत सुबह ४:३० बजे के अलार्म से हुयी और ३-४ मिनट बिस्तर में पडे पडे खुद को गालियाँ दी कि किस पागल कुत्ते ने काटा था जो सुबह ५:३० बजे वाले हिल रनिंग ग्रुप (www.willshills.net) के साथ दौडना शुरू कर दिया। फ़िर उठे, दाढी बनाकर ५:२५ पर हिल्स रनिंग के लिये जा पंहुचे। आज के वर्क आऊट का नाम Mark Fraser Workout था। मार्क फ़्रेजर को मैं जानता हूँ और वो खुद को कष्ट देने के लिये प्रसिद्ध हैं। आखिर और कौन अपने जन्मदिन पर अकेले २५ मील दौडने का कार्यक्रम बनाता है। इस वर्क आऊट के बारे में एक दिन पहले अपने एक मित्र से ईमेल से पूछा तो उनके शब्द ये थे (बिना किसी फ़ेरबदल के)।

प्रश्न: I have never done Fraser workout. What exactly is this? The schedule
says that it’s a combination of Fraser and LP sort of run. What does that
mean?

उत्तर: It means everyone is gonna be curled up in the fetal position, crying
for their mommy after the workout -- that's what it means Neeraj.


खैर जैसा सुना था वैसा ही निकला, २५ मिनट पहाडों की चढाई और उतराई पर दौडते दौडते अन्त में सभी कुत्तों की तरफ़ बेतहाशा हांफ़ रहे थे। उसके स्कूल के जिम में स्नान करने के बाद हम ८ बजे अपनी मेज पर आ चुके थे। सोचा था कि आज शाम को दौडेंगे नहीं केवल मुफ़्त(आज एक मित्र अपने जन्मदिन की खुशी में मुफ़्त बीयर बांट रहे थे) बीयर पीने मित्रों के साथ वलहाला जायेंगे। लेकिन दोपहर में एक ईमेल मिली की एक नयी मेम्बर हमारे रनिंग ग्रुप के साथ दौडना चाहती हैं, लेकिन उन्हें रास्ता नहीं पता है और साथ में एक दौडने वाला/वाली चाहिये जिससे वो रास्ते में खो न जाये। हमारी Member At Large की कुर्सी की जिम्मेवारी है कि नये मेम्बर्स का ध्यान रखें जिससे उन्हे क्लब में कोई असुविधा न हो।

लम्बी कहानी छोटी करके लब्बोलुआब ये कि हमको शाम को ३८ डिग्री की धूप में और ८०% आद्रता में १० किमी उस नये मेम्बर के साथ दौडना पडा। वैसे वो नयी मेम्बर भी हमारी तरह स्टूडेंट निकली, और Baylor College of Medicine में कैंसर पर अपनी पीएचडी कर रही हैं।

उसके बाद थोडी से मुफ़्त बीयर चांपी गयी और दोस्तों से बातचीत की गयी। थोडी देर के बाद (१०:३० pm) जब सब घर जाने की तैयारी करने लगे तो देखा गया कि मुफ़्त की बीयर पीकर एक दोस्त काफ़ी टल्ली हो गये हैं। ये एक नयी समस्या आ खडी हुयी, जब किसी टल्ली से पूछो कि "Can you drive back home?" और उत्तर मिले, "May be, I am not sure" तो इसका अर्थ है कि मामला सीरियस है वरना सभी का जवाब होता कि "हाँ, क्यों नहीं, हम एकदम ठीक हैं" :-)

हमने उनसे पूछा कि घर कितनी दूर है तो बोले २ ब्लाक मतलब लगभग ४०० मीटर दूर। हमने कहा कि चलो हम तुम्हारे साथ पार्किंग लाट तक चलते हैं और अगर तुम्हे कोई दिक्कत हुयी तो हम तुम्हारी कार से तुम्हे घर छोड देंगे और दो ब्लाक दौडते हुये वापिस अपनी कार तक आयेंगे और उसके बाद अपने घर जायेंगे।

उनकी कार तक पंहुचे तो वो दरवाजा खोलने की हालत में भी नहीं थे। उनसे कार की चाबी लेकर उनके घर का रास्ता पूछते पूछते कार चलानी शुरू की और उनका घर दो ब्लाक के स्थान पर लगभग ४ किमी दूर निकला।

लगभग ११ बजे उन्हे घर छोडने के बाद हमने वापिस स्कूल की तरफ़ दौडना शुरू किया। ४ किमी कोई खास दूरी नहीं है लेकिन पूरे दिन मेहनत के बाद वो चार किमी बहुत कठिन लगे। दूसरा जीन्स और Non-running shoes में दौडना इतना आसान नहीं। उस पर सारी सडक सूनसान और लुट जाने का डर, पैर इतने थके हुये कि इतना भी भरोसा नहीं कि अगर कोई पीछे पडा तो उससे दौडकर पीछा छुडा लेंगे। उस पर मजे की बात ये कि रात की अंधेरी सडकों पर दौडते दौडते हमें मजाज़ की ये नज़्म याद आ गयी।

शहर की रात और मैं नाशाद-ओ-नाकारा फिरूँ
जगमगाती जागती सड़कों पे आवारा फिरूँ
गैर की बस्ती है कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ ?
ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ?

खैर थोडा दौडकर और थोडा चलकर ३० मिनट में अपनी कार तक पंहुचे और उसके बाद रात को १२ बजे अपने घर जाकर बिना कुछ खाये पिये अपने बिस्तर पर ढेर हो गये। सुबह नींद खुली तो उन्हीं सज्जन का संदेश मिला:

Oh my. It took me a few minutes this morning to figure out how I got here and who I needed to to thank for making it happen. I'm pretty sure you're responsible. THANK YOU. And next time, just convince me overnight parking at Rice is free. When I'm drunk I believe anything.

Shit - man do I ever owe you. Not that I'll ever figure out what all happened last night, but I'm really confused about how my car ended up in my garage because I didn't think I had the gate card. Did you park it in the garage? I went to go move it in this morning and discovered it was already there!


चलिये हमारा दिन तो गुजर गया कि आप मजाज़ साहब की आवारा नज्म की इन पंक्तियों को सुनिये जिसका आडियो इतनी आसानी से उपलब्ध नहीं है।

इक महल की आड़ से निकला वो पीला माहताब
जैसे मुल्ला का अमामा, जैसे बनिये की किताब
जैसे मुफलिस की जवानी, जैसे बेवा का शबाब
ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ ? ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ?

मुफलिसी और ये मजाहिर हैं नजर के सामने
सैकड़ों चंगेज-ओ-नादिर हैं नजर के सामने
सैकड़ों सुल्तान जाबिर हैं नजर के सामने
ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ ? ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ?

ले के चंगेज के हाथों से खंजर तोड़ दूँ
ताज पर उस के दमकता है जो पत्थर तोड़ दूँ
कोई तोड़े या ना तोड़े मैं ही बढ़कर तोड़ दूँ
ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ ? ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ ?

11 टिप्‍पणियां:

  1. कष्टकर रहा होगा तुम्हारे लिये।हमें तो संस्मरण बड़ा रोचक लगा। लेखन जमाऊ हो रहा है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेहरबानी करके 'मज़ाज' को 'मजाज़' लिखें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. @हर्ष प्रसादजी
    गलती सुधार ली है, इसको सामने लाने के लिये आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा तभी "मुझे देख के बीन बजाये"(http://www.youtube.com/watch?v=4nY5QmhfZAY) के लिये तुम बोल रहे थे कि "only good thing happened today"। वैसे ये क्लियर नहीं हुआ कि बिना एक्सेस कार्ड के गाड़ी गैराज में पार्क कैसे हुयी?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब हर दिन एक जैसा थोड़े ही होता है! बढ़िया लेखन।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे में बहुत काम आती हैं ये गज़लें. :)

    खूब दौड़ते रहो!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिन में एक बार दौड़कर तीन बार सोने की तो बनती है, तीन बार दौड़ने की तो कतई नहीं बनती है । जिगरा है, बनाये रखिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपसे तो पूछना होगा: 'दौड़ने के अलावा और क्या चल रहा है आजकल :)' और गीत गजल ऐसे में तो बहुत याद आते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जगजीत की आवाज में ऑडियो उपलब्ध है .इ स्निप्स पर.....एच एम् वी की सी डी भी है .बरसो पहले एक सीरियल आता था .....कहकशां...उसमे प्ले बेक सिंगिंग थी..


    वैसे बहुत दौड़ते हो यार.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. :)....free ki beer "chaanpi"....kitna sunder shabd hai..:)
    mujhe hindi mein comment karna tha..kripya madad karen ki hindi mein kaise likhenge....

    उत्तर देंहटाएं
  11. sambhaal liya aur sambhal gaye...
    badi hi achchi baat!!!!
    aur haan is umda nazm ke link ke lie bada waala thnx aapko:-))))

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।