शुक्रवार, मई 04, 2007

लड़कियों से बात करो, लड़कियों के बारे में नहीं !!!

कुछ लोगो ने धूप में छतियाने के किस्से सुनाये तो किसी ने शर्त जीतने की कहानी सुनायी | लीजिये हम भी हाजिर हैं कुछ आजमाये हुये नुस्खे लेकर | अब चूँकि ये चिट्ठा घरवाले भी पढ सकते हैं इसलिये पोलिटिकली करेक्ट होने के लिए एक डिस्क्लेमर भी जरूरी है, "ये सभी नुस्खे आजमाये हुये हैं लेकिन जरूरी नहीं कि सारे के सारे मैंने खुद आजमाये हो" |

लीजिये कुछ साश्वत सत्य वचन पेश हैं:

१) अगर किसी लडके ने किसी लड़की से "हाय/हैलो" कहा है तो वो इसे केवल "हाय/हैलो" ही समझती है | इसके उल्टे अगर किसी लड़की ने किसी लडके को "हैलो" कहा तो लड़का इसको केवल "हैलो" नहीं समझेगा |

२) अगर लड़का "हैलो" को केवल "हैलो" समझना भी चाहेगा तो उसके दोस्त ऐसा नहीं होने देंगे, आख़िर दोस्त होते ही किस दिन के लिए हैं :-)

) लड़के जिनकी गर्ल फ्रेंड होती है और जिनकी नहीं होती है, में केवल एक फर्क होता है, पहले वाले लोग "लड़कियों से बात करते हैं" और दूसरे वाले "लड़कियों के बारे में बात करते हैं" |

४) इंजीनियरिंग कालेज छोड़ दिए जाएँ तो संसार में सुन्दर लड़कियों की कोई कमी नहीं है |

५) जो इंजीनियरिंग कालेज जितना अच्छा होगा वहाँ लड़कियों कि गुणवत्ता कालेज की रैंक के व्युत्क्रमानुपाती होगी |

६) आपके मित्र कभी नहीं चाहते कि आपकी कोई गर्ल फ्रेंड बने, वरना वो कैंटीन में किसके साथ बैठ कर मौज करेंगे |

७) कालेज में लड़कियों के पीछे पंजीकरण बिल्कुल मुफ्त होता है, बन्दा साल में दो बार लड़की से बात नहीं करेगा लेकिन कैंटीन में हमेशा "मेरी वाली"/"तेरी वाली" संबोधन से ही बात होगी |

८) अगर आप पढाई में अच्छे हैं तो इसका सहारे आप बातचीत की शुरुआत तो कर सकते हैं, लेकिन सफलता के लिए जल्द से जल्द दूसरे मुद्दों पर आना नितांत जरूरी है |

९) लड़कियों के साथ कभी भी तार्किक बातें न करें, जो लडकियां कहती हैं कि उन्हें लाजिकल/सत्यवादी लडके पसंद हैं वो झूठ बोलती हैं | कभी उन्हें बोल कर देखिए कि वो कितनी बेवकूफी भरी बातें कर रही है फिर पता चलेगा कि उन्हें सत्य कितना पसंद है |

१०) पेट भर भर कर झूठ बोलना लड़कियों को काफी भाता है, लड़कियों के हर सवाल के जवाब का अंत एक सवाल से करें |

११) लड़कियों को बात करना बहुत पसंद होता है आप केवल बीच बीच में "आह/वाह" और "सच में/तुम मजाक कर रही हो" जैसा कुछ बोलते रहें, बाक़ी वो अपने आप बोलती रहेगी |

१२) दोस्तो की भावुक बातों से सावधान रहें, "तूने लड़की के लिए दोस्ती छोड़ दी" जैसे वाक्यों ने कितने ही लड़कों का रोमांटिक कैरियर बीच में चौपट किया है |

१३) यदि आप सभ्यता से किसी लड़की से बात करते हैं तो इससे उसे कोई दिक्कत नहीं, हाँ उसको भाईयों के बारे में पूर्व जानकारी हमेशा काम आ सकती है |

१४) ज्यादा से ज्यादा लड़की आपको शालीनता से मना कर सकती है, लेकिन इस प्रकार की कई असफलताओं के बाद ही व्यक्ति सफल होता है |

१५) लड़की की सहेली का रोल दुनिया में गुब्बारे की तरह फुलाकर रखा गया है, आमतौर पर इसकी कोई आवश्यकता नहीं होती, हिम्मत करके अकेले दम पर बात करने जैसा सुख और कुछ नहीं |

फिलहाल के लिए इतना ही, बाक़ी के पाठ फिर किसी दिन !!!

13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह नीरज भाई खूब टोटके लाए। अब अपना तो टाइम निकल गया, उम्मीद है नौजवान साथियों के काम आएंगे। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूब शोध चल रहा है. वैसे मैने देखा है, राकेट और अंतरीक्ष पर शोध कोई करता है और राकेट उड़ाता कोई और है. :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. शमां की ताप की अनुभूति नजर आ रही है और साहब जरा इन्जीनियरीग की लड़कियों से बच के रहना…वो तुम्हारे दरवाजे पर ही खड़ी होंगी…। :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह! बहुत खूब। बढ़िया लिखा है आपने। आपके ब्लॉग में "हिट" होने ने सभी अवयव मौजूद हैं। लिखते रहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ह्म्म..लगता है बहुत ठोकरें खाई हैं.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. भईया जी तुम भी कमाल के आदमी हो
    क्या धांसू फांसू तरीके बताये हैं. तुम आदमी हो की मजनूँ के नाना. मजा आ गया. तुमसे मिलते रहना पडेगा. मिज़ाज हम दोनो के एक जैसे जो है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. late comer to this article. your observaton about girls in engg collega was true few years ago,,,not any more....ab jakar dekhiye ek-do rakhi sawant aur rakhi gulzaar, dono milengi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. mujhe ek ladki se pyar hai lekin wo laki mujhe kabhiline nahhi deti hai please mujh aap log kuch bataye

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेनामी4:27 am

    my name is nisha ye sab juth hi

    उत्तर देंहटाएं
  10. joni tyagi12:34 am

    apne jo kuch bhi likha wo 101% shi h

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसी तरह का आलेख मेरे ब्लॉग पे पढ़ सकतें हैं, लिंक है-
    http://writeabhijeet.blogspot.com/2011/07/3.html

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।