रविवार, जून 01, 2008

राग दरबारी के एक प्रसंग का आडियो (पहला प्रयास) !!!

आज मैं पाडकास्टिंग के क्षेत्र में अपना पहला प्रयास कर रहा हूँ । मुझे एक बहुत ही बढिया वेबसाईट मिली है जिसके द्वारा पाडकास्ट बनाना बेहद आसान है । बस एक नम्बर पर फ़ोन कीजिये और नंबर मिलने का बाद अपना पाडकास्ट रेकार्ड करना शुरू कर दीजिये । पाडकास्ट पूरा होने के बाद उस वेबसाईट पर जाईये और अपने पाडकास्ट की mp3 फ़ाईल सहेज लीजिये । वेबसाईट का नाम है www.gcast.com | लेकिन वेबसाईट का नम्बर अमेरिका का है इसीलिये भारत से काल करके पाडकास्ट बनाना बेहद मंहगा होगा लेकिन अमेरिका/कनाडा में रहने वाले ब्लागर बंधु इसका खूब फ़ायदा उठा सकते हैं ।

मैं श्रीलाल शुक्लजी की कालजयी रचना राग दरबारी के एक प्रसंग का आडियो प्रस्तुत कर रहा हूँ । अगले प्रयास में आडियो को और बेहतर बनाने का प्रयास करूँगा । लेकिन इस पाडकास्ट को बनाते बनाते अपने बचपन और कालेज के दिनों की याद आ गयी जब विभिन्न हिन्दी प्रतियोगिताओं में मैं खूब ईनाम जीता करता था ।

आपकी सेवा में प्रस्तुत है पाडकास्टिंग में मेरा पहला प्रयास :-)

5 टिप्‍पणियां:

  1. आज भंग घोट कर फिर लगाता हूँ पॉडकास्टिंग के लिए फोन. :)

    बढ़िया पॉडकास्ट प्रयास.ऐसे ही धीरे धीरे पूरी रागदरबारी सुना डालो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhai bahut khoob, par isase ham to lut jaenge...ham log jo aapse itna door hain unke liye bhi kuchh upaay talaashiyegaa..vaise achchha to lag rahaa hai...badhaaee

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब! भांग घोंटते सनीचरा प्रधान बन जायेगा! यह अंश तो रागदरबारी सजीव कर गया मन में। और आपकी आवाज से एक आत्मीय के सामीप्य का अहसास भी हुआ।
    आपका यह प्रयास तो अति प्रशन्सनीय है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे साहब हम भी शुक्ल जी की बड़े फ़ैन हैं.
    राग दरबारी को इस तरह सुनकर मज़ा आ गया.
    =================================
    बधाई
    डा.चंद्रकुमार जैन

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया प्रयास है -
    आवाज़ भी अच्छी लगी
    -बधाई !
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।