गुरुवार, अप्रैल 05, 2007

मैकाले: सत्य कहीं कुछ और तो नहीं ।

आज श्री सुरेश चिपलूनकर द्वारा मैकाले पर लिखित एक पोस्ट पढी और उस पोस्ट पर लिखी टिप्पणियाँ भी पढीं ।
मैं श्री सुरेशजी के विचारों और भावनाओं का सम्मान करता हूँ, परन्तु इतिहास के मापदण्डों से सत्य कुछ और ही है । कक्षा आठ तक मेरी शिक्षा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विद्यालय में हुयी है और मैकाले के इस वक्तव्य से मैं भली भाँति परिचित हूँ । मैकाले के बहाने हमें वामपंथियों को गाली देने का सुनहरा अवसर प्राप्त हो जाता है और आधुनिक शिक्षा पद्यति के प्रति अपनी भडास निकालने का बहाना भी । इस लिहाज से देखा जाये तो मैकाले ने इस देश को उसकी नकारात्मक ऊर्जा को निकालने का एक माध्यम प्रदान किया है और इसके लिये मैं मैकाले का ॠणी हूँ ।


इस विषय पर मेरे विचार तब बदले जब मैने श्री कोइनराड एल्स्ट (Koenraad Elst) का एक शोधपत्र पढा । कोइनराड एल्स्ट के बारे में अधिक जानकारी विकीपीडिया पर इस कडी से प्राप्त करें । कोइनराड एल्स्ट हिन्दू राष्ट्रवादी इतिहासकार माने जाते हैं और भाजपा एवं विश्व हिन्दू परिषद जैसी राष्ट्रवादी संस्थाओं की पत्रिकाओं में उनके लेख छपते रहते हैं । मुझे ताज्जुब हुआ जब कोइनराड एल्स्ट ने मैकाले के प्रति फ़ैले हुये इस भ्रम को दूर करने का प्रयास किया । उन्होने उस मुद्दे को छुआ जिसके बारे में लगभग सारा भारत एक ओर खडा था । दूसरे शब्दों में कहें तो मैकाले को जुतियाने को सब तैयार खडे हैं ।

इस संदर्भ में दो प्रश्न हैं । पहला ये कि क्या वास्तव में मैकाले ने ये व्यक्तत्व दिया था ? दूसरा कि अगर दिया भी था तो इसका प्रसंग क्या था? ऐसा तो नहीं है कि मैकाले के भाषण के इस अंश को "आउट आफ़ कान्टेक्स्ट" लिया जा रहा हो ।

सबसे पहले हम उस वाक्यांश को एक बार फ़िर पढते हैं:

" मैने भारत की चारो तरफ़ यात्रा की है और मुझे इस यात्रा के दौरान एक भी ऐसा व्यक्ति नहीं मिला जो चोर हो अथवा भिखारी हो । मैने इस देश में इतना धन देखा है, इतने ऊँचे संस्कार देखे हैं, लोगों का ऐसा माद्दा देखा है कि मुझे नहीं लगता कि हम कभी इस देश को कभी जीत पायेगें । कम से कम तब नहीं जब तक कि हम इस देश की रीढ तो तोड दें जो कि इस देश की आध्यात्मिक और सांस्कॄतिक धरोहर है । इसलिये मैं प्रस्तावित करता हूँ कि हमे इस देश की पुरानी शिक्षा पद्यति और संस्कॄति को बदलना होगा । अगर भारतीय सोचेंगे कि जो कुछ विदेशी और अंग्रेजी है वो उनकी स्वयं की चीजों से अच्छा है तो वे अपना आत्मसम्मान और अपनी संस्कॄति खो देगें और वैसा बन जायेगें जैसा हम उन्हे बनाना चाहते हैं: वास्तव में एक दबा और कुचला हुआ राष्ट्र ।"

मैकाले का जन्म सन १८०० में हुआ था और वो भारत में लगभग १८३४-१८३८ तक रहे थे । मैं मैकाले के प्रथम कथन से तो बिल्कुल ही सहमत नहीं हूँ । १८३४ के आस पास भारत ऐसा भी नहीं था कि आप पूरा भारत छान मारें और आपको एक भी भिखारी और चोर न मिले । मैकाले के बाकी के वाक्यांश संभवत: सत्य हों ।


कोइनराड एल्स्ट ने अपने शोध में पाया कि मैकाले के भाषण में से ये वाक्य किसी ने अपनी सुगमता और पूर्वाग्रह के कारण बीच में से निकाले हैं । वास्तव में मैकाले अपने भाषण में इन वाक्यों का कभी प्रयोग नहीं करते, बल्कि वो कुछ और कहते हैं जिसको भी लोगो ने काट छाँट कर अपनी इच्छा से जहाँ तहाँ प्रयोग किया है । मैकाले अपने भाषण में कहते है: (यहाँ पर में बिना अनुवाद के आंग्लभाषा में ही उद्धरित कर रहा हूँ )

"In one point I fully agree with the gentlemen to whose general views I am opposed. I feel with them, that it is impossible for us, with our limited means, to attempt to educate the body of the people. We must at present do our best to form a class who may be interpreters between us and the millions whom we govern; a class of persons, Indian in blood and colour, but English in taste, in opinions, in morals, and in intellect. To that class we may leave it to refine the vernacular dialects of the country, to enrich those dialects with terms of science borrowed from the Western nomenclature, and to render them by degrees fit vehicles for conveying knowledge to the great mass of the population."

लोग मैकाले द्वारा बोले गये (इस पोस्ट में नीली स्याही में लिखे हुये) वाक्यों को तो बडे जोशोखरोश से बताते हैं लेकिन उसके बाद के वाक्यों को गायब कर देते हैं ।

मैकाले को समझने के लिये हमें उनके समय को समझना होगा । मैकाले उन्नीसवीं शताब्दी की पैदाइश थे, यूरोप उस समय वैज्ञानिक युग में तेजी से प्रवेश कर रहा था । सामाजिक मूल्य बदल रहे थे, वर्जनायें टूट रही थीं । इसके विपरीत भारत उस समय संभवत: अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा था । विदेशी हम पर शासन कर रहे थे, देश के किसान का बुरा हाल था (और मैकाले को पूरे भारत में कोई चोर और भिखारी न मिला) । अंग्रेज भारत में धीरे धीरे पैर पसार रहे थे और इस कार्य को पूरा करने के लिये उन्हे मानवीय संसाधनों की जरूरत थी । भारत में अंग्रेजों के शासन को सुगम बनाने के लिये उन्हे भारत में भी मजबूरन वैज्ञानिक तौर तरीकों का इस्तेमाल करना पड रहा था । रेल, डाक और तार की सुविधायें इसी विचारधारा का परिणाम थीं ।

इससे पूर्व सन १८१३ में इंगलैण्ड की संसद ने ईस्ट इंडिया कम्पनी को भारत में शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिये एक लाख रूपये प्रति वर्ष खर्च करना अनिवार्य कर दिया था । अब इस रूपये के खर्च को लेकर दो खेमें बँट गये थे । एक खेमा कहता था कि पुराने ढर्रे की शिक्षा पद्यति अर्थात संस्कॄत, अरबी और फ़ारसी के माध्यम से शिक्षा चालू रखी जाये, और दूसरा खेमा (जिसमें मैकाले थे) का विचार था कि यूरोपीय प्रकार की आधुनिक शिक्षा पद्यति अपनायी जाये जिसमें कि आधुनिक विधाओं/विज्ञान पर मुख्य ध्यान हो । ये अच्छा ही हुआ की मैकाले वाला खेमा अपनी बात मनवानें में कामयाब हुआ । इसके फ़लस्वरूप भारत में एक नयी चेतना जाग्रत हुयी जिसके कारण गांधी, सुभाष, नेहरू, सरोजनी नायडू जैसे विद्वान और विचारकों का भारत के राजनैतिक पटल पर अवतरण हुआ ।


जो लोग मैकाले को गाली देते हैं मैं उनसे पूछता हूँ कि क्या वो अपने बच्चों को पुरानी भारतीय गुरूकुल पद्यति से शिक्षा दिलायेंगे ? जी हाँ आज भी भारत में ऐसे गुरूकुल उपलब्ध हैं । या फ़िर वो भी इस आधुनिक शिक्षा पद्यति और मैकाले को गाली देते हुये अपने बच्चों को आई. आई. टी अथवा आई. आई. एम. में प्रवेश लेने के लिये प्रेरित करेंगे ।


जो लोग
कोइनराड एल्स्ट का पूरा लेख पढना चाहते हैं वो इस कडी से उनके लेख की पी. डी. एफ़. फ़ाइल पढ सकते हैं ।




6 टिप्‍पणियां:

  1. आपने नई जानकारी प्रस्तुत की है, जो संभवत: बहुसंख्य लोग न जानते हों।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सही नीरज भाई। 19वीं सदी के भारत के बौद्धिक अकाल के बारे में मैकाले ने शायद ठीक ही कहा था। पिछले 200-300 सालों में लिखे गए मौलिक वैज्ञानिक एवं गणित लेखन को लें तो हम लोग वाकई कंगले नजर आएंगे। आजकल एक पुस्तक पढ़ रहा हूँ Origins of Value लेखक अंकगणित, बीजगणित के लिए भारतीय गणितकारों को पूरा सम्मान देता है पर इसके अलावा अभी और कुछ नहीं मिला।

    चाणक्य की राजनिति संहिता अथवा अर्थशास्त्र भी गर्व का विषय है। इस सूची में यदि आप कुछ और जोड़ सकते हैं तो बढ़िया।

    पंकज

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी जानकारी, मय तथ्यों के. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. नीरजजी, बहुत अच्छा लेख है आपका. भारत की सोच में से बहुत कुछ है जिसका पुनर्मूल्यांकन होना चाहिये. दुनिया फ्लैट हो रही है पर लोगों को पर्वत और पाताल दीखते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. wow!!nice information wonderfully presented.

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रिय नीरज

    आज (22/12/07) को सारथी पर पधार कर अपने इस लेख की ओर मेरा ध्यानाकर्षण करने के लिये आभार. मैं आपके कहे लेखों को पढूंगा जिससे मामला स्पष्ट हो जाये -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है.
    हर महीने कम से कम एक हिन्दी पुस्तक खरीदें !
    मैं और आप नहीं तो क्या विदेशी लोग हिन्दी
    लेखकों को प्रोत्साहन देंगे ??

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।