मंगलवार, जनवरी 10, 2012

समय बहुत बलवान !!!

हम बदलते हैं, तो समाज बदलता है। बहुत सी बाते जो आज समाज में मान्य नहीं है समय के साथ स्वीकार्य हो जायेगीं। और बहुत सी बातें जो भले ही दूसरों को दुख देती हों, उन्हें हम आज डंके की चोट पर सिर्फ़ इसलिए कह पाते हैं क्योंकि वो क्षम्य हैं, स्वीकार्य हैं।
समय आज ही बडी तेजी से नहीं बदल रहा है बल्कि हमेशा से ऐसा ही रहा है। सोचना आपको है कि आपको इस बदलाव को किस रूप में स्वीकार करना है। बदलाव केवल अच्छे ही नहीं होगें और न ही आप केवल उन बदलावों को चुन सकते हैं जो आपको पसन्द हों। समय के बदलाव एक पैकेज्ड डील की तरह होते हैं और उन्हे उसी रूप में स्वीकार करना चाहिये।

अब नीचे दिये गये चित्रों पर गौर कीजिये। ये सभी विज्ञापन एक समय में अमेरिका के महत्वपूर्ण अखबारों और पत्रिकाओं में प्रकाशित हुये थे। क्या आज किसी समाचार पत्र/पत्रिका में हम ऐसे विज्ञापनों की कल्पना भी कर सकते है? समय कितनी रहस्य भरी चाल चलता है। हम सब रूमानियत में उन अच्छे पुराने दिनों की कल्पना जरूर कर लें लेकिन हमें नहीं भूलना चाहिये कि अतीत के पर्दे में हमेशा ही सब कुछ सुखद नहीं होता। कभी कभी बदलाव की बयार ताजी हवा का झोंका भी हो सकती है जिसकी हमारे वर्जनाओं में पीढियों से दबे समाज में घोर आवश्यकता है।

आभार,
नीरज रोहिल्ला



































11 टिप्‍पणियां:

  1. रोचक विज्ञापन, अब यह संभव न होगा, जागरण हो चुका है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुनिया बदल रही है .....आदमी भी एक छोटे से स्पेस में . कैसे ज्यादा कमीनापन डाले सीख रहा है इसको इन्वेंशन कहते है

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभी भी बहुत सी बातें हैं जो कल को ऐसी ही बेवकूफी भरी और एक्सट्रीम लगेंगी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. .
    .
    .
    बहुत सी बाते जो आज समाज में मान्य नहीं है समय के साथ स्वीकार्य हो जायेगीं। और बहुत सी बातें जो भले ही दूसरों को दुख देती हों, उन्हें हम आज डंके की चोट पर सिर्फ़ इसलिए कह पाते हैं क्योंकि वो क्षम्य हैं, स्वीकार्य हैं।

    समय आज ही बडी तेजी से नहीं बदल रहा है बल्कि हमेशा से ऐसा ही रहा है। सोचना आपको है कि आपको इस बदलाव को किस रूप में स्वीकार करना है। बदलाव केवल अच्छे ही नहीं होगें और न ही आप केवल उन बदलावों को चुन सकते हैं जो आपको पसन्द हों। समय के बदलाव एक पैकेज्ड डील की तरह होते हैं और उन्हे उसी रूप में स्वीकार करना चाहिये।


    काश यह जीवन-दर्शन हम सभी समझ पायें...




    ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. great post neeraj
    can i use some advts from here for naari blog

    उत्तर देंहटाएं
  6. समय बलवान है .....हीलर या किलर !

    उत्तर देंहटाएं
  7. kahan se mile aapko ye ads....nice to know old Western stuff!

    उत्तर देंहटाएं
  8. OnlineGatha One Stop Publishing platform From India, Publish online books, get Instant ISBN, print on demand, online book selling, send abstract today:https://www.onlinegatha.com/

    उत्तर देंहटाएं

आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से अपनी राय से मुझे अवगत करा सकते हैं । आप कैसी भी टिप्पणी देने के लिये स्वतन्त्र हैं ।